Poetry लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
Poetry लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

शुक्रवार, 18 जनवरी 2013

धागा प्रेम का






                         रोक रही हूँ छलकते आंसुओं को 
                         जब मिलोगे करूँगी अर्पित तुझे ही 
                         आंसुओं  का अर्घ्य शीतल हेम सा 
                         मुंह  फेर रुखसत हो गये 
                         मुड़कर  अश्कों  भरी नयनो को देखा ही नहीं  
                         रहे  हमेशा वफा में पावँ लिपटे हुए 
                         बीते सौ कहानियों में से क्या कहूँ 
                         साथ नही है कोई आंसुओं  के तिजारत में 
                         जब भी मिलोगे 
                         आँखों में आँसू लबो को हँसता  पाओगे 
                         आँसू  भरे दामन से मुंह   ढाँप रहें 
                         कर रहें हैं आपका इंतजार 
                         याद रखना वस  यहीं 
                         सबंध अपना जोड़ता है 
                         वज्र  से गुरु,फूलों से मृदु एक धागा प्रेम का।

                                     (चित्र Google से साभार)                      

You might also like :

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...